Monthly Archives: मई 2008

Electronic Media And Code Of Conduct

 

Should electronic media, news media in particular, have a mandatory code of conduct? It is a burning question and topic for debates these days. Uma Khurana case, continue telecast of nude photographs of actress Monika Bedi, story of a car without driver and stories and programmes on ghosts and witches stick a big question mark on the content and sense of responsibilities of news channels. Freedom of expression or press and responsibilities towards society must have good balance.

 

Present Situation of News and Current Affairs Channels

 

Here we will talk only about TV news channels because private radio channels have no permission to broadcast news and current affair programmes. At present we have about 30 Indian news channels in different languages and there is a war of TRP(Television Rating Point) among them. TRP is linked with advertisement revenue directly, the only source of income for the most of news channels. Thus the war of TRP is just a war of profit, profit and only more profit. News channels have broken all the ethical, professional and social limits to win this TRP race. Here we are taking few examples of the irresponsible behavior of these channels :-

1)   Uma Khurana Case: It is the most recent example of condemnable activity of news channels. According to the find outs of investigation the reporter of ‘Live India’ or ‘Janmat’ (A News Channel) made a conspiracy to trap Uma Khurana due to personal matters. Reporters and his helpers have been put behind the bars and the channel is facing one month ban.

2)   Monika Bedi Case: “These are not pornographic channels and they must have some sense of responsibility. These channels cannot misuse press freedom like this.” Senior counsel K.T.S. Tulsi used these words to mention the Monika Bedi’s case before the bench of Supreme Court. Zee news was telecasting the nude photographs of actress Monika Bedi continuously. Those photographs were taken in the bathroom of Bhopal jail during her detention, according to the claim of news channel. At last Supreme Court gave direction to Information & Broadcasting Ministry to restrain the telecast of these photographs.

 

3)   Media Trials: ‘Media trial’ is a popular word in the street of intellectuals and our judiciary has shown its unhappiness on it several times. News channels are delivering decisions indirectly by their coverage and angle of stories. They don’t feel the sensitiveness of the incident as well as their responsibilities. In an incident of Delhi, a girl made allegations of rape and continual sexual harassment on her own uncle(Mama). News channels snatched this sensational story and started to broadcast it continuously with headings like “Haiwan Mama Ka Karnama”, “Vasana Me Andha Bana Mama” etc. After few days that mama and his wife committed suicide. According to suicide note that person was impotent so he was not able to do such a heinous crime. After investigation the girl’s allegations were found full of suspicion and a conspiracy against that person (Mama) came in to light. Here, the irresponsible behavior of news channels took to valuable and innocent lives.

 

Present Laws

 

Electronic media, both entertainment and news, get freedom of expression from article 19 1 A of our constitution like others. There is no any separate provision for the freedom of press like the constitution of USA and few other countries but the Supreme court has  given the orders to save the freedom of press several times. Article 19(1)(a) do not give the absolute or boundless freedom to express. There are few restrictions mentioned in article 19(2). For example:

(Freedom of expression can be restricted or limited to save the followings)

1) Sovereignty and integrity of India

2) The security of the State

3) Friendly relations with foreign States

4) Public order

5) Decency or morality

6) Contempt of court

7) Defamation

 

Proposed Broadcasting Services Regulation Bill:

 

“ Whereas airwaves are public property and it is felt necessary to regulate the use of such airwaves in national and public interest, particularly with a view to ensuring proper dissemination of content and in the widest possible manner;

 

Whereas the broadcast media is a powerful purveyor of ideas and values and plays a pivotal role in not only providing entertainment but also disseminating information, nurturing and cultivating diverse opinions, educating and empowering the people of India to be informed citizens so as to effectively participate in the democratic process; preserving, promoting and projecting the diversity of Indian culture and talent;

 

Whereas Government has issued guidelines from time to time for regulating the Broadcasting Services and it is felt necessary to give a statutory effect to these guidelines and provide for a comprehensive legislation.”

 

Above words were used in the draft of the proposed “Broadcasting Services Regulation Bill” which was put on the website of Information & Broadcasting Ministry for inviting comments. It shows the importance and sensitiveness of the broadcast media in the eye of government and the present situation (Worst) of this media is crystal clear to all so the Government wants to create a mechanism that could put few genuine restrictions on the broadcasted content. There are three important and think worthy features of this proposed bill:

 

1)   Establishment of ‘Broadcasting Regulatory Authority of India’.

2)   Creation of the ‘Code of Conduct’ for broadcasted content.

3)   Provision of punishment for the violators of the ‘Code of Conduct’.

 

Code of Conduct      

 

Electronic media specially news media has registered strong protest against any code of conduct made by the Government. Broadcasters Foundation, the organization of news channels has declared any such attempt as the violation of the freedom of press. They are alleging that the Government wants to control electronic news media. After many rounds of meetings both the Government and news channels have come to a solution. News channels are ready to have a code of conduct and the Government is ready to allow the news channels to make code of conduct for them by themselves. News channels have demanded one year for the making of code of conduct and got permission too. Thus the “Broadcasting Services Regulation Bill” will have to wait for at least one year for being an act and practical enforcement.

 

Earlier we have discussed the present situation of the electronic media and no body can deny the need of some type of genuine control and restrictions on it but the freedom of news media can not be ignored at all too. We have faced the result of press censorship once during the Emergency so we can’t allow the Government to have power to control news media again. We can follow the following solutions:

 

1)    Self made code of conduct : Self made code of conduct is the best way which was already adopted by the Government and news channels. Let the news channels make code of conduct for themselves and then a regulatory body should do arrangements for the strict enforcement of it.

 

2)    Neutral Broadcast Regulatory Body : The Broadcasting Regulatory body must not be full of the Government’s representatives only. Prominent citizens from different fields must be appointed on decision making positions. For example : Senior journalists, Writers, Retired Judges, Eminent Social Workers, Artists, etc. Only this type of arrangement can satisfy the common   people and we can be tension free by thinking that the electronic media which is the most strong and effective tool of mass communication is working under the surveillance of a organization full of learned, sensible, responsible and aware citizens in constructive manner and right direction.            

 

                    – Amit Kumar, Expert of media studies

चिंगारी

एक चिंगारी जल रही है

भीतर

उसकी लौ

कभी तेज होती है

कभी सोच-विचार के फेर में

पड़कर

धीमी पड़ जाती है

लेकिन

जब हवाओं का रुख बदलता है

मौसम अंगड़ाई लेती है

बादल मचल उठता है

बारिश डूबो देती है

तन-मन को शांति के सागर में

ऐसे माहौल में भी

हम टटोलते हैं दियासलाई

और सर्द पड़ चुके लाल बूंदों के ऊपर

दौड़ा देते हैं

निराशा के सभी भावों को

फिर जल उठती है छोटी- सी चिंगारी

वही चिंगारी

जिसे हम

अपने मासूम बच्चे की तरह

कलेजे से लगाए

भटकते फिरते हैं

दुलारते हैं उसे

पुचकारते हैं बार-बार

समझाते हैं कि

तुम्हारे होने से ही

काबिज है हमारा अस्तित्व

 

भले ही दुनिया बदली है

और इस तरह बदली है

कि किसी के लिए

मुमकिन नहीं रह गया है

किसी को पूरे भरोसे के साथ

अपना कहना

गले लगा लेना

फिर हाथ में हाथ लिए

कहना

कि भाई इतने दिनों तक कहां थे?

आप तो बिल्कुल भूल ही गए

अच्छा हुआ आज आप मिल गए

बहुत दिन हो गए थे बात किए हुए।

 

एक ऐसे दौर में

जब निश्चल हंसी

ढ़ूंढने से नहीं मिलती

कलि-काल के कालचक्र में

मजाक का पात्र

बना दिए जाने के खतरे के बावजूद

तुम्हें खिलखिलाते हुए देखना चाहता हूं

वादा करता हूं

चाहे जितनी लपटें उठें

तुम्हें जलाने के लिए

पर मैं तुम्हें जिलाए रखूंगा

हर हाल में

और तुम हर भंवर से बच निकलोगे

रहोगे बेखौफ

हमारे संग

भक्त प्रहलाद की तरह !

                            – आदर्श कुमार इंकलाब

संस्‍मरण बारिश का

आज मई की 21 तारीख है। सुबह ( 20 की मध्‍य रात्रि) के 1 बजे हैं। सब सो रहे हैं।
आसमान से बारिश की झड़ी लगी हुई है। फड़फड़ाती हुई ट्यूबलाइट की निरंतर बिजली कड़क रही है। नींद उचट गयी है। बारिश देखने का लालच मेरे लिए बहुत बड़ा है। मेरे अस्तित्व के एहसास का जैसे अविभाज्‍य अंग। प्राय: मैं ऐसे मौकों पर वेदना और उल्‍लास के मिश्रित भाव से भर उठता हूँ । मेरे मित्र अंधेरे और उजाले की इस गुमनाम बेला में एक कौंध की तरह मन के क्षितिज पर फूटने लगते हैं। पहाड़, नदियां, आकाश, समंदर सब के बीच बारिश एक पवित्र सा संबंध जोड़ने लगती हैं। संबंध – एक जटिल पद है। न जाने कितनी चीजें कौंधने लगती हैं मेरे मन: आकाश पर । बादल लगातार गरज रहें हैं। अत्‍यंत भयावह गर्जना। बे सहारा लोग जो सड़को पर होते हैं आम दिनों में आज अभी कहां होंगे ।यह बरसात डराती और पुलकित करती है, एक साथ।
अध्‍यापन का पेशा भी अजीब है। अनेक विद्यार्थी और उनकी अनंत स्‍मृतियॉ । चाहने वाले और विरोधी भी। ऐसे जिनमें अनंत ऊर्जा भरी रहती है और वे भी जो गुमशुदा से कहीं खोये हुए खामोश बैठे रहते हैं। अध्‍यापकों में मेरे प्रिय शिक्षक थे दीपक सिन्‍हा। बरबस उनकी याद आ गई। वे विद्यार्थी को पूरी तरह ‘बरबाद’ करके छोड़ते थे। ऐसी क्षमता बहुत कम अध्‍यापकों में होती है। मेरे मन और दिमाग को उन्‍होने बिल्‍कुल बदल दिया। जब मुझे उनकी सख्‍त जरूरत थी तब वे नहीं रहे। मेरी चाहत कुछ इसी तरह मिटती रही है।जब जो चाहा मिला तो जरुर पर ठहर न सका।
अभी मुझे नौकरी मिली ही थी कि मेरे पिता मुझे छोड़कर चले गए। और, जब ‘उसकी’ सख्‍त दरकार थी तो उसने भी ‘न’ कह दिया । ऐसी लड़खड़ाती जिंदगी मेरे नसीब का हिस्‍सा है। वैसे मैं नसीब में विश्‍वास नहीं करता । सोचा था कुछ और लिखूंगा- बारिश के रोमांटिक मूड पर पर देखिए लेखनी (कीबोर्ड) भी कहॉं से कहॅां चली जाती है , जिंदगी तरह। बादल अभी भी गरज रहे हैं, पर उनका डर जैसे खत्‍म हो गया है। सृजन की यही ताकत होती है। एक घंटा हो गया है आपको यह सब बताते हुए, सुनने की सीमा होती है । इसलिए बंद करता हूँ । बस इस कविता को सुनते जाइए-
रतनसेन पद्मावती संवाद (जायसी के प्रेम आख्‍यान ‘पदमावत’ के ऋण के साथ)
उस दिन
मेरी बगल में बैठी
तुम
पिघलने लगी थीं
लाल कपोल
उबलने लगे थे तुम्‍हारे

तुम्‍हारे होंठों से
उठती हुई
निर्धूम लपटों को
मैंने चुपके से देख लिया था।
उस दिन
पहली बार
तुम्‍हारे भीतर उतरकर
मैंने पहचाना था
तुम कितनी गहरी हो
अथाह
छू सका था
मोती और मूंगे अनमोल
जो तुमने छिपा रखे थे अपने अतल में।
तुम्‍हारे शिखरों पर
लड़खड़ाते
कदमों से पहुंच
मैं अनुभव कर पाया था
दूर-दूर तक फैले तुम्‍हारे भीतरी निजी सन्‍नाटे का
कि
शिखर अपनी ऊंचाई में होता है कितना
अकेला
निहत्‍था और अजनबी
बिल्‍कुल एकाकी
उस दिन
करीब रहकर मैंने जाना था
तुम्‍हारी रचना
कितने आदिम पाषाण खण्‍डों से हुई है
जो एक तरल गंध से सराबोर हैं
तुम्‍हारी शिराओं में बहता ज्‍वालामुखी
मुझे लगा था गलाने
धीरे-धीरे उस दिन
उसी दिन
मैंने जाना था
हम दोनों पिघल सकते हैं
गल सकते हैं
धातुओं की तरह
साथ-सा‍थ
एक-दूसरे की ऑच में।

                              – डॉ. राम प्रकाश द्विवेदी 

इंकलाब…जिंदाबाद..!

 

दोस्तों,

इंकलाब…जिंदाबाद!

मेरे पास बहुत सारे लोगों का मेल आया है कि आपके तीन ही आलेख ब्लॉग पर क्यूं है?

आप क्यों नहीं कुछ लिखते? अगर नहीं लिखते तो ब्लॉग क्यूं खोल रखा है?

आप सही कह रहे है कि मैं कुछ लिख नहीं पा रहा हूं।

वजह ये है कि मैं न कुछ कर पा रहा हूं, ना ही उस दिशा में कुछ सोच पा रहा हूं, जिनसे

आपकी अपेक्षाएं जुड़ी हुई हैं। दुनिया में प्रेम, भाईचारा और अच्छे विचारों को फैलाने का कार्य इतना आसान भी नहीं है।

हम व्यक्तिगत तौर पर समाज के बारे में दिन-रात सोचते तो हैं लेकिन उनके लिए कुछ

कर नहीं पाते। हमारे पास ताकत भी है और कमजोरी भी। मैं भी ठीक आपकी ही तरह हूं।

इसलिए चाहूंगा कि सभी लोग परस्पर संवाद कायम करें न कि सिर्फ मैं अपनी बातें रखूं और

आप लोग बस उसे पढ़कर संतुष्ट हो लें। साथ ही ये मेरा ब्लॉग नहीं, आप सबका है। इंकलाब की विचारधारा का मंच है। कुल तैंतीस मेल ऐसे आएं, जिनमें उन्होंने एक

बार मुलाकात की बात कही है। हम जरूर मिलेंगे। मैं हमेशा आपलोगों के साथ हूं लेकिन आपको बता दूं कि मैं एक साधारण-सा शख्स हूं और ये आपलोगों का बड़प्पन है कि आप मुझे इस कदर सम्मान दे रहें हैं। मैं इसे इंकलाब की विचारधारा का सम्मान समझता हूं। और मिलने से ज्यादा जरूरी है कि हम सबके दिलों में इंकलाब जिंदा रहें, हम लोग एक-दूसरे का हौसला आफजाई करते रहें।

तमाम भाइयों को एक बार फिर से धन्यवाद..!

जय हिंद, जय भारत, वंदे मातरम।

 

आपका-

आदर्श कुमार इंकलाब

 

जलेंगे आप जलेंगे हम, जलेगा हमारा चमन

कोलाहल है मचा
धरती रही उबल
इंसान की फितरत में
नहीं है सुधरने का शगल
 

पृथ्वी तप रही है। इंसान को इसकी चिंता नहीं है। हो भी क्यों। उसके घर में एसी है, कूलर है, पंखा है। हिमखण्ड पिघल रहे है। नदियां उफान पर है। पर इंसान क्या करें। उसके घर, पानी है, फ्रिज है, बर्फ है। खेतों में सूखा पड़ रहा है। पर इंसान के घर खाना है, अनाज है और है ईंधन। तो क्या इसे नियामत की भूल कहें। या किसी एक सभ्यता के कर्मों की बानगी। हवा में तपिश, बादलों में रूखापन, पानी में जलन, माहौल में उमस और पसीने का कंटक। ये बदलाव आ चुका है। दिल्ली की तपती दोपहरी में आप जल रहे है। मुंबई में सागर है, सो तापमान टिका है, लेकिन यही समुद्र लील लेगा, एक दिन एक बड़ी आबादी। धीरे धीरे वो अपना दायरा बढ़ाएगा, और इंसान का चूल्हा चौका सोफा बिस्तरा और दीवाले ढह जाएंगी। कोलकाता में आबादी का समुद्र है, सो एक अकाल वहां इंतजार में है। अकाल से मौत होना जायज है। असंख्यों की मौत। चेन्नई का मरीना बीच सुंदर है। लोग सामान्यता में जीते है। लेकिन पानी उन्हे नहीं बख्शेगा। भारत जैसे देश को गंगा जोड़ती है। गंगा में उफान पाप नहीं धुलेगा, पापी का नाश ही कर देगा। और ये सब करने के बाद गंगा वापस लौट जाएगी। शिव की जटाओं में। डरना जरूरी है। आप नहीं आपका संसार सिसकेगा। पानी और धूप के बीच का नाता टूट जाएगा। और रह जाएगी भाप। गर्म भाप। जो खेतों की माटी में छोटी छोटी दरारें पैदा कर देगी। जो फसलों की हरियाली से जलन रखेगी। जो बादलों के धुंधलके से खार खाएगी। और देगी एक नीरस मौसम। गर्म मौसम। जाड़ों की चाहत और स्वेटर पर चलते हाथ रूक जाएंगे। और बहेगी लू। करीब ही आग से लौ निकलेगी और जंगलों में वो सूखे पत्तों से दोस्ती गांठ कर एक चिरचिराहट के साथ सब कुछ लालिमा में लाकर, काला कर देगी। चिंगारी से कही भी कुछ भी खाक में बदल जाएगा। और आप के चेहरे पर पसीना बना रहेगा। 

ये ग्लोबल वार्मिंग है। वैश्विक गर्मी। जो आपके हमारे और हम सबके किए गए प्राकृतिक अत्याचारों का नतीजा है। हमने पेड़ काटे, हमने गाड़िया दौड़ाई, हमने उर्जा का दोहन किया, और उसके बदले दिया पृथ्वी को धुआं और अप्राकृतिक उष्मा। जिसका परिणाम है असंतुलन। हिमखण्डों ने पिघलना शुरू कर दिया है। वे अब सिमट रहे है। अपना अस्तित्व खो रहे है। और अपनी जलधाराओं को सोख रहे है। वे अब गर्मी से हार चुके है। और अपना सारा गुस्सा अब उतारने के करीब खड़े है। तो क्या मानव जाति को अब दिन गिनने चाहिए। क्या अब करने को कुछ बचा है। क्या हम फिर से संतुलित हो पाएंगे।
हां। पर केवल आपके त्यागने से। केवल आपके छोड़ने और लागू करने से। क्या तैयार है कल से साइकिल से आफिस जाने के लिए। चीनी, जापानी ये कर रहे है। पर आप तो उनसे बड़े है। क्या तैयार है बायोडिग्रेडेबिल साधनों पर खाना बनाने के लिए। पर आप तो बिना माइक्रोवेव ओवन के खा ही नहीं सकते है। मैं सबकी बात नहीं करता। पर कारकों की बात जरूरी है। तो क्या कल से मान लूं कि एयरकंडीशनर के बिना आप सो लेंगे आप। कैसे, गर्मी इतनी है, मैं सड़ नहीं सकता। पर यकीन जानिए। आज केवल हर घर घर में गर्मी को रोककर आप अपने नौनिहालों को हीटरी वातावरण में जीने से रोक सकते है। मेरी बात पर नहीं यकीन है, तो आज की दोपहर अपने शहर में नंगे पांव निकल कर देखिए। छाले न प़ड़ जाएं तो कहिएगा। इसे ऐसा आपने बनाया है। और अगर इसे और भयावह नहीं बनाना चाहते तो रूक जाइए। वरना ग्लोबल वार्मिंग का पहला असर आपके पानी, धूप, खाने, ईंधन और जिंदगी पर पड़ेगा। और जिसे झेलने की ताकत आपमें नहीं बची होगी। और एक बात, शहर मकानों से नहीं, हरियाली से भी बनता है। तो कम से कम घर में एक आक्सीजन देने वाला पौधा जरूर लगा लें।

  – भव्य श्रीवास्तव

मेरी कविता हो तुम

 

अश्रुपूरित ऑखों से
हमेशा क्‍या सोचती रहती हो तुम
लगता है
जैसे कोई समुद्र मंथन हो रहा हो
तुम्‍हारे भीतर
सब कुछ कहकर भी
जैसे कुछ न कह पाने की विवशता
क्‍यो झलकती है
बार-बार तुम्‍हारे भीतर
तुम भरोसा करो
मैं बिना बोले ही तुम्‍हारे
जान जाता हूं
बात की गहराई तुम्‍हारी ।
आंसू अच्‍छे होते हैं
आत्‍मा को पवित्र बनाने के लिए।
इसलिए रोना आए तो रोओ
और पवित्र होओ तुम
बिना किसी संकोच के।

                         – डॉ. राम प्रकाश द्विवेदी 

ऐ अजनबी

 

यों ही रोककर

निगाहों ने पूछा

ऐ अजनबी

तू क्यों, सगा-सा लगा?

 

पत्थरों का देश है

अनजान आसमान

सवेरा भी गुमनाम है

सूरज-चांद-सितारे सारे

लगते बेजान हैं

धमाको की गूंज

बारूद की गंध

जहां बसते हैं

फूलों की खुशबू लिए

मौत के खौफ में

जिंदगी की मुस्कुराहट लिए

चलते हो कैसे..?

 

ऐ अजनबी

मेरी तलाश है

धरती का आंचल

अपनी आंखों में

तुमने उसे उतारा कैसे..?

 

कैसे कहूं तू अनजान है

लगता है जैसे

सदियों से पहचान है

धूप की पहली किरण-सी

धुली मुस्कान थी

उन आंखों में

हौले से छूकर वह

गुजर गया

वह स्पर्श

मरती उम्मीद को

फिर जिंदा कर दिया

एक नया रंग दे गया

वह अजनबी

इस अनजान शहर को सजाकर गया।

 

– डॉ. चित्रा सिंह